बिहार पर्यटन में आपका स्वागत है!
अपना खाता बनाएं
बिहार पर्यटन
पासवर्ड भूल गया
बिहार पर्यटन
एक नया पासवर्ड सेट करें
बिहार पर्यटन
आपने अभी तक अपना खाता सक्रिय नहीं किया है.
नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके अपने खाते को सक्रिय करें।
बिहार पर्यटन
सक्सेस पेज।
बिहार पर्यटन
त्रुटि पृष्ठ।
बिहार पर्यटन
यूजर प्रोफाइल


बिहार पर्यटन
पासवर्ड बदलें
बड़ी दरगाह

नालंदा  जिले के बिहारशरीफ शहर  में स्तिथ महान सूफी हजरत मखदूम शेख शर्फुदीन अहमद यहीया मनेरी रहमतुल्ला अलैह का मज़ार है,जिसे बड़ी दरगाह के नाम से जाना जाता है। इनका जन्म पटना के मनेर नामक स्थान में हुआ था। इन्होने ने जात पात के भेदभाव से अलग उठ कर मानव समुदाय की सेवा की खातिर अपने जीवन को समर्पित किया था।

आज के दौर में इनके इस मजार पर सभी धर्म और समुदाय के लोग अपनी फरियाद लेकर आते है और उनकी मुरादे पुरी होती है। यहाँ प्रति वर्ष ईद के पांचवे दिन से पाँच दिनों का उर्श मेला लगता है, जहाँ देश विदेश से लाखों की संख्या में जायरीन आकर बाबा के मजार पर चादर पोशी कर मन्नते मांगते है।

इनके द्वारा लिखी गयी कई बेहतरीन किताबें आज भी खानकाह में मौजूद है। उर्श मेला के दौरान यहाँ पर परंपरागत तरीके से कव्वाली का भी आयोजन किया जाता है।

इनके द्वारा लिखी गयी कई बेहतरीन किताबें आज भी खानकाह में मौजूद है। उर्श मेला के दौरान यहाँ पर परंपरागत तरीके से कव्वाली का भी आयोजन किया जाता है।

Booking.com

ध्यान दें : अन्य स्थलों के लिंक प्रदान करके, बिहार पर्यटन इन साइटों पर उपलब्ध जानकारी या उत्पादों की गारंटी, अनुमोदन या समर्थन नहीं करता है।

नालंदा

हल्की वर्षा

32.93°C
लगता है जैसे 37.34°C
हवा 0.55 m/s
दबाव 1004 hPa
पसंदीदा में जोड़ें

संग्रह