बिहार पर्यटन में आपका स्वागत है!
अपना खाता बनाएं
बिहार पर्यटन
पासवर्ड भूल गया
बिहार पर्यटन
एक नया पासवर्ड सेट करें
बिहार पर्यटन
आपने अभी तक अपना खाता सक्रिय नहीं किया है.
नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके अपने खाते को सक्रिय करें।
बिहार पर्यटन
सक्सेस पेज।
बिहार पर्यटन
त्रुटि पृष्ठ।
बिहार पर्यटन
यूजर प्रोफाइल


बिहार पर्यटन
पासवर्ड बदलें
मंदार हिल

मंदार पर्वत भागलपुर से 50 किलोमीटर दूर बांका जिले में स्थित है। मंदार पर्वत को मदरांचल भी कहा जाता है| मंदार पर्वत की अपनी धार्मिक महत्तवता भी है। कहा जाता है की देवताओं ने मंदार पर्वत का उपयोग मथनी बना कर समुन्द्र मंथन के लिए किया था। हिन्दुओं के लिए यह पर्वत भगवान विष्णु का पवित्र आश्रय स्थल है तो जैन धर्म को मानने वाले लोग प्रसिद्ध तीर्थंकर भगवान वासुपूज्य से इसे जुड़ा मानते हैं। आदिवासी मूल के लोग इस क्षेत्र को सिद्धि क्षेत्र मानते है और मकरसक्रांति से एक दिन पूर्व यहाँ वो पूरी रात सिद्धि पूजा करते है। यहाँ मकरसक्रांति के अवसर पर सबसे बड़ा संताली मेला का आयोजन होता है जिसमें लाखों की संख्या में लोग आते है। मंदार की चट्टानों पर उत्कीर्ण सैकड़ों प्राचीन मूर्तियां, गुफाएं, ध्वस्त चैत्य और मंदिर धार्मिक और सांस्कृतिक गौरव के मूक साक्षी हैं। सदियों से खड़ा मंदार पर्वत आज भी लोगो के आस्था और विश्वास से जुड़ा हुआ है। इस जगह की प्राकृतिक सुंदरता और पर्वत के पास का तालाब यहाँ के वातावरण को और भी मनोहारी बनाते है। यहाँ आने वाले पर्यटकों के लिए यह स्थान काफी सुखद अनुभव देता है। 

Booking.com

ध्यान दें : अन्य स्थलों के लिंक प्रदान करके, बिहार पर्यटन इन साइटों पर उपलब्ध जानकारी या उत्पादों की गारंटी, अनुमोदन या समर्थन नहीं करता है।

बांका

घनघोर बादल

30.02°C
लगता है जैसे 33.49°C
हवा 0.4 m/s
दबाव 1003 hPa
पसंदीदा में जोड़ें

संग्रह