बिहार पर्यटन में आपका स्वागत है!
अपना खाता बनाएं
बिहार पर्यटन
पासवर्ड भूल गया
बिहार पर्यटन
एक नया पासवर्ड सेट करें
बिहार पर्यटन
आपने अभी तक अपना खाता सक्रिय नहीं किया है.
नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके अपने खाते को सक्रिय करें।
बिहार पर्यटन
सक्सेस पेज।
बिहार पर्यटन
त्रुटि पृष्ठ।
बिहार पर्यटन
यूजर प्रोफाइल


बिहार पर्यटन
पासवर्ड बदलें
केशरिया स्तूप

केसरिया पूर्वी चम्पारण से ३५ किलोमीटर दूर दक्षिण साहेबगंज - चकिया मार्ग पर लाल छपरा चौक के पास अवस्थित है| यह पुरातात्विक महत्व का प्राचीन ऐतिहासिक स्थल है| यहाँ एक वृहद् बौद्धकालीन स्तूप है जिसे केसरिया स्तूप के नाम से जाना जाता है| बुद्ध ने वैशाली से कुशीनगर जाते हुए एक रात केसरिया में बितायी थी तथा लिच्छविओं को अपना भिक्षा  पात्र प्रदान किया था | कहा जाता है की जब भगवान बुद्ध यहाँ से जाने लगे तो लिच्छविओं ने उन्हें रोकने का काफी प्रयास किया| लेकिन जब लिच्छवि नहीं माने तो भगवान बुद्ध ने उन्हें रोकने के लिए नदी में कृत्रिम बाढ़ उत्पन की| इसके पश्चात ही भगवान् बुद्ध यहाँ से जा पाने में सफल हो सके थे| सम्राट अशोक ने यहाँ एक स्तूप का निर्माण करवाया था| वर्तमान में यह स्तूप १४०० फ़ीट के क्षेत्र में फैला हुआ है| केसरिया बौद्ध स्तूप की ऊंचाई आज भी १०४ फ़ीट है , इसे विश्व का सबसे बड़ा स्तूप माना जाता है|

Booking.com

ध्यान दें : अन्य स्थलों के लिंक प्रदान करके, बिहार पर्यटन इन साइटों पर उपलब्ध जानकारी या उत्पादों की गारंटी, अनुमोदन या समर्थन नहीं करता है।

पूर्वी चंपारण

साफ आकाश

20.71°C
लगता है जैसे 20.05°C
हवा 1.32 m/s
दबाव 1012 hPa
पसंदीदा में जोड़ें

संग्रह