बिहार पर्यटन में आपका स्वागत है!
अपना खाता बनाएं
बिहार पर्यटन
पासवर्ड भूल गया
बिहार पर्यटन
एक नया पासवर्ड सेट करें
बिहार पर्यटन
आपने अभी तक अपना खाता सक्रिय नहीं किया है.
नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके अपने खाते को सक्रिय करें।
बिहार पर्यटन
सक्सेस पेज।
बिहार पर्यटन
त्रुटि पृष्ठ।
बिहार पर्यटन
यूजर प्रोफाइल


बिहार पर्यटन
पासवर्ड बदलें
सूर्य मंदिर कन्दाहा

सूर्य मंदिर कन्दाहा एक महत्वपूर्ण धार्मिक और ऐतिहासिक स्थान है जिसे भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा औरंगाबाद जिले के देव में स्थित सूर्य मंदिर की तरह विधिवत मान्यता दी गई है। यह मंदिर तारास्थान, महिषी के रास्ते में गोरहो घाट चौक से लगभग 3 किमी उत्तर में सहरसा जिले में स्थित है। सूर्य मंदिर कन्दाहा में सात घोड़ों वाले रथ पर सवार सूर्य भगवान की भव्य मूर्ति को एक ही ग्रेनाइट स्लैब पर नक्काशी कर उभारा गया है।

मंदिर के गर्भगृह द्वार पर, शिलालेख हैं जो इतिहासकारों द्वारा पुष्टि किया गया हैं कि यह सूर्य मंदिर कर्नाटक वंश के राजा नरसिंह देव की अवधि के दौरान बनाया गया था, जिन्होंने 14 वीं शताब्दी में मिथिला पर शासन किया था। ऐसा कहा जाता है कि कालापहाड़ नामक एक क्रूर मुगल सम्राट ने मंदिर को क्षतिग्रस्त कर दिया था, जिसे बाद में प्रसिद्ध संत कवि लक्ष्मीनाथ गोसाई द्वारा पुनर्निर्मित किया गया। सूर्य मंदिर कन्दाहा असीम आस्था का प्रतिक है जो हिन्दू समुदाय को लोगो के लिए ख़ास महत्व रखता है। 

Booking.com

ध्यान दें : अन्य स्थलों के लिंक प्रदान करके, बिहार पर्यटन इन साइटों पर उपलब्ध जानकारी या उत्पादों की गारंटी, अनुमोदन या समर्थन नहीं करता है।

सहरसा

छितरे हुए बादल

28.74°C
लगता है जैसे 31.67°C
हवा 2.78 m/s
दबाव 1004 hPa
पसंदीदा में जोड़ें

संग्रह