बिहार पर्यटन में आपका स्वागत है!
अपना खाता बनाएं
बिहार पर्यटन
पासवर्ड भूल गया
बिहार पर्यटन
एक नया पासवर्ड सेट करें
बिहार पर्यटन
आपने अभी तक अपना खाता सक्रिय नहीं किया है.
नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके अपने खाते को सक्रिय करें।
बिहार पर्यटन
सक्सेस पेज।
बिहार पर्यटन
त्रुटि पृष्ठ।
बिहार पर्यटन
यूजर प्रोफाइल


बिहार पर्यटन
पासवर्ड बदलें
विष्णुपद मंदिर

विष्णुपद मंदिर गया जिले में मोक्षदायिनी फल्गु नदी के किनारे पर स्थित है |वैसे इस मंदिर का वर्णन रामायण में भी है लेकिन वर्तमान में स्थित मंदिर का निर्माण इंदौर की महारानी अहिल्या बाई द्वारा कराया गया था | विष्णुपद मंदिर सोने को कसने वाला पत्थर कसौटी से बना है, जिसे जिले के अतरी प्रखंड के पत्थरकट्‌टी से लाया गया था। इस मंदिर की ऊंचाई करीब सौ फीट है। सभा मंडप में 44 पिलर हैं। इस मंदिर की भव्यता और वैभव अद्भुत है |

जैसा कि नाम से पता चलता है, विष्णुपद मंदिर 40 सेमी लंबे पदचिह्न के लिए प्रसिद्ध है, जिसमें शंकम, चक्रम और गधम सहित नौ प्रतीक हैं। कहा जाता है कि ये भगवान विष्णु के अस्त्रों का प्रतीक हैं।

विष्णुपद, जिसे धर्मशिला के नाम से भी जाना जाता है, एक ठोस चट्टान पर उत्कीर्ण है और चांदी के धातु से सुसज्जित है।इन पदचिह्नों का श्रृंगार रक्त चंदन से किया जाता है। इस पर गदा, चक्र, शंख आदि अंकित किए जाते हैं। यह परंपरा भी काफी पुरानी बताई जाती है जो कि मंदिर में अनेक वर्षों से की जा रही है। इस मंदिर का अष्टकोणीय आकार इस मंदिर की भव्यता को बेहद आकर्षित बनाता है |

पवित्र स्थान गया का नाम गयासुर नामक राक्षस के नाम पर रखा गया है, जिसने एक अर्घ्य दिया और वरदान मांगा कि जो भी उसे देखता है, उसे मोक्ष मिलेगा। इसके कारण गलत होने के बाद भी लोगों ने उसे देखकर मोक्ष प्राप्त करना शुरू कर दिया। इसका सामना करने और मानवता को बचाने में असमर्थ, सर्वशक्तिमान उसके सामने प्रकट हुए और उसे नीचे की दुनिया में जाने के लिए कहा। भगवान विष्णु ने गयासुर के सिर पर अपना दाहिना पैर रखकर उसे उस चट्टान पर अपने पैरों के निशान छापते हुए पाताललोक में भेज दिया जो आज भी दिखाई दे रहा है। पितृपक्ष के अवसर पर यहां श्रद्धालुओं की काफी भीड़ जुटती है।

ऐसी भी मान्यता है कि पितरों के तर्पण के पश्चात इस मंदिर में भगवान विष्णु के चरणों के दर्शन करने से समस्त दुखों का नाश होता है एवं पूर्वज पुण्यलोक को प्राप्त करते हैं।

इस मंदिर परिसर के अंदर ही कुछ और छोटे मंदिर भी हैं जो भगनान नरसिंह को और भगवान शिव के अवतार ‘फल्गीश्वर’ को समर्पित हैं। ये मंदिर हिन्दुओं के लिए बहुत ही का स्थान रखता हैं। यह मंदिर श्रद्धालुओं के अलावा पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय है।

Booking.com

ध्यान दें : अन्य स्थलों के लिंक प्रदान करके, बिहार पर्यटन इन साइटों पर उपलब्ध जानकारी या उत्पादों की गारंटी, अनुमोदन या समर्थन नहीं करता है।

गया

कुहरा

31.95°C
लगता है जैसे 38.87°C
हवा 2.57 m/s
दबाव 1000 hPa
पसंदीदा में जोड़ें

संग्रह