बिहार पर्यटन में आपका स्वागत है!
अपना खाता बनाएं
बिहार पर्यटन
पासवर्ड भूल गया
बिहार पर्यटन
एक नया पासवर्ड सेट करें
बिहार पर्यटन
आपने अभी तक अपना खाता सक्रिय नहीं किया है.
नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके अपने खाते को सक्रिय करें।
बिहार पर्यटन
सक्सेस पेज।
बिहार पर्यटन
त्रुटि पृष्ठ।
बिहार पर्यटन
यूजर प्रोफाइल


बिहार पर्यटन
पासवर्ड बदलें
Ibrahim baya maqbara

संत के रूप में पूजनीय मलिक बाया की कब्र की सुनियोजित सादगी उनके परोपकार और अध्यात्म की गवाही के रूप में खड़ी है ।

पीर पहाड़ी पहाड़ियों के ऊपर स्थित, इब्राहिम मल्लिक बाया का मकबरा लगभग 600 साल पहले बनाया गया था। इब्राहिम मल्लिक 1339 ईसवी के आसपास भारत आया और दिल्ली सुल्तान मोहम्मद तुगलक के अधीन एक जनरल के रूप में कार्य किया और कई लड़ाइयाँ जीतीं। उनके कई सफल अभियानों के लिए उन्हें सुल्तान के दरबार से बाफिया की उपाधि से सम्मानित किया गया था। वह अपने आध्यात्मिक कार्यकाल के लिए भी जाने जाते थे। उनके समाधि के आसपास की प्राकृतिक सुंदरता एवं तरह तरह के पंछियों की चंचाहट वातावरण को मंत्रमुग्ध बनाते है| अच्छी सड़के होने से आप सीधे अपने निजी वाहन द्वारा पहाड़ी की चोटी पर पहुंच सकते है| उर्स एवं ईद के मौके पर यहाँ काफी ज्यादा भीड़ देखने को मिलती है|

Booking.com

ध्यान दें : अन्य स्थलों के लिंक प्रदान करके, बिहार पर्यटन इन साइटों पर उपलब्ध जानकारी या उत्पादों की गारंटी, अनुमोदन या समर्थन नहीं करता है।

नालंदा

कोहरा

7°C
लगता है जैसे 5.79°C
हवा 0.4 m/s
दबाव 1016 hPa
पसंदीदा में जोड़ें

संग्रह