बिहार पर्यटन में आपका स्वागत है!
अपना खाता बनाएं
बिहार पर्यटन
पासवर्ड भूल गया
बिहार पर्यटन
एक नया पासवर्ड सेट करें
बिहार पर्यटन
आपने अभी तक अपना खाता सक्रिय नहीं किया है.
नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके अपने खाते को सक्रिय करें।
बिहार पर्यटन
सक्सेस पेज।
बिहार पर्यटन
त्रुटि पृष्ठ।
बिहार पर्यटन
यूजर प्रोफाइल


बिहार पर्यटन
पासवर्ड बदलें
विश्व शांति स्तूप

विश्व शांति स्तूप , भारत गणराज्य के जन्म का स्मारक है।

भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने वर्ष 1956 में 2500वें बुद्ध निर्वाण के दौरान, दुनिया भर से बौद्ध बुलाये गए थे, वह ग्रिहकुट पहाड़ी पर चढ़ गए। पवित्र स्थल की उपेक्षित स्थिति से दुखी होकर उन्होंने जापानी संत फुजी गुरुजी से अनुरोध किया कि वे सीखने की पवित्र स्थान के सम्मान के रूप में वास्तविक बौद्ध परंपरा में स्तूप का निर्माण करें । रत्नागिरी पर्वत के शीर्ष को स्तूप निर्माण का जगह चुना गया। प्रसिद्ध कलाकार उपेंद्र महारथी ने इसकी वास्तुकला की संरचना को बनाया था। 160 फीट ऊंचे स्तूप की आधारशिला 1965 में राष्ट्रपति एस राधाकृष्णन ने रखी थी और 1969 में इसका उद्घाटन राष्ट्रपति वी वी गिरि ने किया था। स्तूप तक 2200 फीट लंबा रोपवे से पहुंचा जा सकता है, जो आपके सफर को और भी रोमांचक बनता है।

 

Booking.com

ध्यान दें : अन्य स्थलों के लिंक प्रदान करके, बिहार पर्यटन इन साइटों पर उपलब्ध जानकारी या उत्पादों की गारंटी, अनुमोदन या समर्थन नहीं करता है।

नालंदा

साफ आकाश

19.52°C
लगता है जैसे 18.34°C
हवा 1.2 m/s
दबाव 1011 hPa
पसंदीदा में जोड़ें

संग्रह