बिहार पर्यटन में आपका स्वागत है!
अपना खाता बनाएं
बिहार पर्यटन
पासवर्ड भूल गया
बिहार पर्यटन
एक नया पासवर्ड सेट करें
बिहार पर्यटन
आपने अभी तक अपना खाता सक्रिय नहीं किया है.
नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके अपने खाते को सक्रिय करें।
बिहार पर्यटन
सक्सेस पेज।
बिहार पर्यटन
त्रुटि पृष्ठ।
बिहार पर्यटन
यूजर प्रोफाइल


बिहार पर्यटन
पासवर्ड बदलें
श्री उगरातारा बेथे महिषी

बिहार के प्रसिद्ध शक्तिस्थलों में सहरसा जिले के महिषी में अवस्थित उग्रतारा स्थान प्रमुख है। मंडन मिश्र की पत्नी विदुषी भारती से आदिशंकराचार्य का शास्त्रार्थ यहीं हुआ था जिसमें शंकराचार्य को पराजित होना पड़ा था। सहरसा से 16 किलोमीटर दूर इस शक्ति स्थल पर सालों भर श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है लेकिन नवरात्र के दिनों में और प्रति सप्ताह मंगलवार को यहां श्रद्धालुओं की भारी भीड़ होती है।

शक्ति पुराण के अनुसार माहामाया सती के मृत शरीर को लेकर शिव पागलों की तरह ब्रह्मांड में घूम रहे थे। इससे होने वाले प्रलय की आशंका को दखते हुए विष्णु द्वारा माहामाया के मृत शरीर को अपने सुदर्शन से 52 भागों में विभक्त कर दिया गया था। सती के शरीर का जो हिस्सा धरातल पर जहां गिरा उसे सिद्ध पीठ के रूप में प्रसिद्धि मिली। महिषी उग्रतारा स्थान के संबंध में ऐसी मान्यता है कि सती का बायां नेत्र भाग यहां गिरा था।

Booking.com

ध्यान दें : अन्य स्थलों के लिंक प्रदान करके, बिहार पर्यटन इन साइटों पर उपलब्ध जानकारी या उत्पादों की गारंटी, अनुमोदन या समर्थन नहीं करता है।

सहरसा

घनघोर बादल

33.3°C
लगता है जैसे 31.24°C
हवा 3.8 m/s
दबाव 1005 hPa
पसंदीदा में जोड़ें

संग्रह